पारस हॉस्पिटल पटना ने अर्थरोस्कोपी सर्जरी से दिया 40 वर्षीय बैडमिंटन प्लेयर को फिरसे खेलने का दूसरा मौका