Contest for pregnant woman to share pictures with baby bumps | Paras Bliss, Mohali, Chandigarh and Panchkula
Feedback!

पारस ब्लिस अस्पताल ने एक्सपेक्टिंग मदर्स के लिए शुरू किया ऑनलाइन कांटेस्ट, बेबी बंप की तस्वीर साझा करने के लिए किया प्रोत्साहित

पारस ब्लिस अस्पताल ने एक्सपेक्टिंग मदर्स के लिए शुरू किया ऑनलाइन कांटेस्ट, बेबी बंप की तस्वीर साझा करने के लिए किया प्रोत्साहित

  • गर्भवती महिलाओं के आसपास बने सोशल स्टिगमा को तोड़ने के लिए 4 दिसंबर से शुरू हुआ है कांटेस्ट
  • पारस ब्लिस पंचकुला, एक्सपेक्टिंग मदर्स को सोशल मीडिया पर अपने बेबी बंप की तस्वीरों को अपलोड करने के लिए कर रहा है प्रोत्साहित
  • भारत में गर्भवती महिलाएं परंपराओं की भूलभुलैया में जकड़ी हुई हैं और वह अपने बेबी बंप को उपयुक्त दिखनेके लिए हमेशा ढक कर रखती हैं
  • पारस ब्लिस में डॉक्टर इन एक्सपेक्टिंग मदर्स को मातृत्व के माध्यम से जीवन के सार का जश्न मनाने के लिए कह रहे हैं

पंचकुला 19th 2017: शेरोन एक आधुनिक भारतीय महिला है। जैसे ही उसने अपनी गर्भावस्था के 7 वें महीने को पार किया, तो उसका बेबी बंप स्पष्ट रूप से दिखाई दे रहा था। अनजाने में सोशल स्टिंगमा को देखते हुए, उसने अपने ऑफिस में बिताए जाने वाले समय को कम कर दिया। लेकिन जब उन्होंने पारस ब्लिस अस्पताल में विजिट किया और से अनजाने में बताया कि अब उसने अपने ऑफिस जाना छोड़ दिया है क्योंकि वह प्रेग्नेंट है, तो पारस ब्लिस में डॉक्टरों ने उन्हें अपने अद्वितीय अभियान में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया।

पारस ब्लिस पंचकुला अस्पताल, माँ और बाल देखभाल विशेषता अस्पताल, मातृत्व के चारों ओर बने हुए स्टिगमा को कम कर रहा है। मातृत्व जीवन का सबसे खुशी वाला उत्सव है। जब एक्सपेक्टिंग मदर्स रूढ़िवादी विचारों से घिरी होती है और समाज जो कहता है करती हैं, तो उन्हें उनके भीतर उभर रहे जीवन को भी ढक कर रखने को कहा जाता है। गर्भावस्था उत्सव का एक क्षण है और पारस ब्लिस जैसे अस्पताल गर्भवती माताओं को उनके सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर गर्व से अपने बेबी बंप को दिखाने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं।

डॉ शिल्वा, वरिष्ठ कंसल्टेंट ऑब्स्टेट्रिक्स और गायनोकोलॉजी कहते हैं “हम महिलाओं को कई  तरह के स्टिगमा से घेरे रहते हैं। लेकिन पारस ब्लिस अस्पताल में हमारा उद्देश्य एक्सपेक्टिंग मदर्स को को यथासंभव आरामदायक बनाने का हैं। इस फोटो प्रतियोगिता को हमारे अस्पताल द्वारा प्रोत्साहित किया गया है ताकि माताओं को चुनने का अधिकार हो कि वे किस तरह अपने बेबी बंप को दिखाना चाहते हैं। मेरे कई पेशेंट दिखाई देने वाले बेबी बंप के बारे में शर्म महसूस करते हैं। हमें इस दुनिया में जीवन लाने की हमारी क्षमता का जश्न मनाया जाना चाहिए। यह कोई शर्म की बात नहीं है। एक माँ जो मानसिक रूप से कमजोर होती है, वह भी एक स्वस्थ बच्चे को जन्म देती है। “

 दुनिया भर की महिलाओं में मदरहुड को सेलीब्रेट करने के लिए फोटोशूट की बढ़ती प्रवृत्ति एक ट्रेंड बनकर उभर रहा है। सेलेब्रिटीज द्वारा शुरू हुए इस ट्रेंड से, इन फोटो शूटों में तेजी आई है और माताओं की संख्या भी बढ़ी है, इस प्रकार मातृत्व फोटो शूट का ट्रेंड भी बढ़ा है। पारस ब्लिस ने पिक्चर कांटेस्ट 4 दिसंबर को “बेबी बंप काउंट” और “मोर फॉर मदरहुड” की टैगलाइन के अंतर्गत शुरू किया था । एक बार जब एक महिला गर्भवती हो जाती है, तो बड़ी से बड़ी मैक्सी या कुर्ती भी उसके भीतर पलने वाले जीवन को छिपा नहीं सकती। जहां कुछ महिलाएं इसके प्रति कंफर्टेबल हैं वहीं कुछ गर्भावस्था के आसपास प्रचलित सामाजिक कलंक का शिकार हैं।

Call
Us
Paras Bliss Guraon
0124-4585555
Paras Bliss Panchkula
0172-5054441
`