PRESS RELEASE

Apr 25, 2022

पारस अस्पताल दरभंगा : सुई से भी छोटे चीरे से किया 53 साल के मरीज का किडनी स्टोन का सफल ऑपरेशन - पेशेंट को किया २ दिन में डिस्चार्ज

पारस अस्पताल दरभंगा : सुई से भी छोटे चीरे से  किया 53 साल के मरीज का किडनी स्टोन का सफल ऑपरेशन - पेशेंट को किया २ दिन में डिस्चार्ज
  • 53 साल के किडनी स्टोन या पथरी से पीड़ित मरीज़ का किया पारस ग्लोबल अस्पताल के यूरोलॉजी के विशेषज्ञों ने सफल इलाज
  • सर्वोत्तम तकनीक का किया उपयोग, की बटन से भी छोटे छिद्र से सर्जरी और दिलाई पेशेंट को जल्द राहतI दो दिन में हो गया पेशेंट दर्द से मुक्त और अस्पताल से डिस्चार्ज |
  • दरभंगा के वरिष्ठ यूरोलॉजिस्ट डॉ अभिषेक बोस के नेतृत्व में हुआ किडनी स्टोन से मुक्त करने का यह सराहनीय सर्जरी I
  • लेटेस्ट तकनीक पी सी ऐन एल नामक सर्जरी प्रक्रिया का हुआ उपयोग |

दरभंगा के निवासी, एजाज़ अहमद को कई दिनों से हो रहा था पसलियों और पीठ में दर्द| पेशाब करते हुए भी एजाज़ अहम जी को दर्द होता था और साथ में उलटी भी महसूस होती थी I कई बार बुखार और दर्द के कारण उनसे काम नहीं हो पाता था I अपने स्वास्थ्य के कष्ट से पीड़ित उन्होंने डॉक्टर से सलाह लेनी की ठानी | उनके घर वालों ने पारस अस्पताल दरभंगा में डॉक्टर को दिखाने की सलाह दी |

डॉ. अभिषेक बोस, यूरोलॉजी विशेषज्ञ , पारस अस्पताल दरभंगा के अनुसार,” एजाज़ अहमद जी के सारे लक्षण किडनी स्टोन या पथरी के तरफ इशारा कर रहे थे I पुष्टि के लिए हमने एक अल्ट्रासाउंड करवाने का सुझाव दिया I उल्ट्रासॉउडन से साफ़ तौर से दिख जाता है की यदि कोई पथरी या कोई और असामान्यता आपके पेट में कोई तकलीफ पैदा कर रही है या नहीं I अल्ट्रासाउंड की रिपोर्ट में यह स्पष्ट हो गया की एजाज़ को किडनी स्टोन है  |”

डॉ अभिषेक यह भी बताते हैं की , “ किडनी स्टोन या पथरी किसी एक कारण से नहीं बल्कि कई कारणों के एक साथ होने की वजह  से होती है I यदि किडनी स्टोन या पथरी का इलाज सही समय पर और सही तरीके से ना लिया जाये तो यह जानलेवा भी हो सकती हैं  I आपके किडनी या ब्लैडर में स्टोन या पथरी तब बनती है जब आपके मूत्र में क्रिस्टल बनाने के पदार्थ बढ़ जाते हैं | कैल्शियम, ऑक्सालेट और यूरिक एसिड कुछ पदार्थ हैं जिनके मूत्र में बढ़ने से किडनी स्टोन या पथरी का संकेत मिल सकता है |”

एजाज़ अहमद के इलाज के लिए और उनके किडनी स्टोन या पथरी को निकलने के लिए, सर्वोत्तम सर्जरी तकनीक पी सी ऐन एल (PCNL) का प्रयोग किया गया I डॉ. अभिषेक के अनुसार ,“पी सी ऐन एल बड़े किडनी स्टोन्स या पथरी के ऑपरेशन के लिए प्रयोग में लाई जाती है I एजाज़ अहमद की पथरी २ सेंटीमीटर के डाई से भी बड़ी थी I इस सर्जरी में एक सेंटीमीटर से भी छोटा सा एक चीरा लगाया जाता है,  जिसके जरिए दूर-बीन के द्वारा सर्जरी की जाती है I यह सर्जरी दरभंगा शहर में पहली बार की गयी है I सर्जरी के दौरान और उसके बाद भी पेशेंट का सवास्थ्य सही रहा और इस तकनीक के ज़रिये उनको जल्द अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया |

सभी को किडनी स्टोन या पथरी के बारे में यह भी जानना ज़रूरी है की यदि आपका स्टोन छोटा हैं तो वह दवाइयों के मदद से ठीक हो सकता है, पर अगर पथरी का आकार गलत है या वह बड़ा है तो आपको सर्जरी ही करवानी होगी I अपरिवर्तनवादी या पेट खोल कर सर्जरी करना अब उचित नहीं है और दूरबीन द्वारा किडनी स्टोन या पथरी का सही उपचार किया जा सकता है|